संसार कल्पब्रृक्ष है इसकी छाया मैं बैठकर हम जो विचार करेंगे ,हमें वेसे ही परिणाम प्राप्त होंगे ! पूरे संसार मैं अगर कोई क्रान्ति की बात हो सकती है तो वह क्रान्ति तलवार से नहीं ,विचार-शक्ति से आएगी ! तलवार से क्रान्ति नहीं आती ,आती भी है तो पल भर की, चिरस्थाई नहीं विचारों के क्रान्ति ही चिरस्थाई हो सकती है !अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का .....यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है….
" जहाँ विराटता की थोड़ी-सी भी झलक हो, जिस बूँद में सागर का थोड़ा-सा स्वाद मिल जाए, जिस जीवन में सम्भावनाओं के फूल खिलते हुए दिखाई दें, समझना वहाँ कोई दिव्यशक्ति साथ में हें ।"
चिट्ठाजगत

मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

तुम नयन गगन से उतर रहे हो....

तुम नयन गगन से उतर रहे हो....
इस मन के समतल पर....!!
मैं धारा सी मचल रही हूँ ....
सागर के हिर्दय पर ....!!
मैं मयूर-सी नाच रही हूँ ....
तेरी ही सरगम पर ....!!
चंचल नयन पखुरु हो गये ....
उठते है ,संग तुम को लिये गगन पर....!!
तुम नयन गगन से उतर रहे हो....

20 टिप्पणियाँ:

दीपक 'मशाल' 27 अप्रैल 2010 को 6:01 pm  

achchhe bimbon ka prayog laga .. lekinprem se itar bhi kuchh likhiye.. sirf premkahani ya apna gum likhna sabkuchh nahin.

वन्दना अवस्थी दुबे 27 अप्रैल 2010 को 6:08 pm  

बहुत अच्छी उपमाएं, सुन्दर प्रणय-गीत.

M VERMA 27 अप्रैल 2010 को 6:15 pm  

तुम नयन गगन से उतर रहे हो....
बेहद खूबसूरत

दिलीप 27 अप्रैल 2010 को 7:46 pm  

bahut khoob..prem par likhte rahiye...bahut khoob

http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 27 अप्रैल 2010 को 8:27 pm  

बहुत सुन्दर रचना!
बिम्बों का प्रयोग बहुत बढ़िया ढंग से किया गा है!

मनोज कुमार 27 अप्रैल 2010 को 8:43 pm  

एक अदम्य जिजीविषा का भाव कविता में इस भाव की अभिव्यक्ति हुई है।

gargi gupta 28 अप्रैल 2010 को 9:45 am  

aap sabhi ke is protsahan ke liye bhut bhut dhanyabad.
Deepak ji aap jaroor or bhi bishayo par rachnaye padainge.....main puri koshish karugi ki lekhni ki abhivyakti or bistrit ho ....aap ke is sujhab ke liye abhar

Shekhar Kumawat 28 अप्रैल 2010 को 10:05 am  

BAHUT KHUB

BADHAI IS KE LIYE AAP KO


SHEKHAR KUMAWAT

भूतनाथ 29 अप्रैल 2010 को 3:43 pm  

yah rachna badi acchi ban padi hai....isi tarah likhti rahe....

भूतनाथ 29 अप्रैल 2010 को 3:44 pm  

कविता है.....और सच भी.....दर्शन भी...और हकीकत भी.....जीवन भी है और धर्म भी......इसिलिये होता है कविता में जीवन का मर्म भी.....!!!!सच कविता में बड़ा अर्थ है....!!!
कभी-कभी कुछ सरल से शब्द ज्यादा सच्चाई से जीवन को....और उसकी गहराई को व्यक्त कर जाते हैं.....ऐसी ही लगी यह कविता आपकी मुझे....लिखती रहे.....आभार

राजेन्द्र मीणा 30 अप्रैल 2010 को 6:32 am  

एक सुन्दर रचना

http://athaah.blogspot.com/

alfaz 3 मई 2010 को 5:55 pm  

bahut khub ! aapko meri taraf se bahut sare ladu , pede...... is kavita ke liye. manmohani panktiyon ke liye dhanyawad.

neha 3 मई 2010 को 6:14 pm  

बहुत अच्छी.....ur way of expression thoughts is really very good... i like it

Esydownloads 4 मई 2010 को 1:29 am  

awesome blog i like ur post man
i have add ur link in my "Drop down menu "(Blog i read)

Achha hai sahi !!
thanks
R.Yadav

amit destiny! 11 जून 2010 को 9:16 pm  

hriday sparshi rachnaa.........bht acchi lagi.....shubkamnayein

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.
Blog Widget by LinkWithin
" अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का , यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है…."

अपनी भाषा मैं लिखे

अपनी रचनाएं ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित करें रचनाकारों से अनुरोध है कि 'अभिव्यक्ति' में अपनी रचना के निःशुल्क प्रकाशन हेतु वे समसामयिक रचनाएं जैसे - राजनैतिक परिदृश्य, स्वास्थ्य, जीवन, भावनात्मक संबंधों जैसे- दोस्ती, प्यार, दिल कि बातें आदि से सम्बन्धित लेख, कहानी, कविता, गज़ल व चुटकले आदि भेज सकते हैं. भेजी गयी रचनाएं मौलिक, अप्रकाशित और स्वरचित होनी चाहिए । रचनाएं यूनिकोड में ही स्वीकार्य होंगी । आप की स्वीकृत रचनाएँ आप के नाम के साथ ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित की जायेंगी। रचनाएं ई-मेल द्वारा भेजी जा सकती हैं । ई-मेलः gargiji2008@gmail.com
"इस ब्लॉग पर पधारने के लिये आप का सहर्ष धन्यवाद"
यहाँ प्रकाशित रचनाओं, विचारों, लेखों-आलेखों और टिप्पणियों को इस ब्लॉग व ब्लॉग लेखक के नाम के साथ अन्यत्र किसी भी रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। (Reproduction allowed in any form strictly with the name of the Blog & Bloger.)

View My Stats

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP