संसार कल्पब्रृक्ष है इसकी छाया मैं बैठकर हम जो विचार करेंगे ,हमें वेसे ही परिणाम प्राप्त होंगे ! पूरे संसार मैं अगर कोई क्रान्ति की बात हो सकती है तो वह क्रान्ति तलवार से नहीं ,विचार-शक्ति से आएगी ! तलवार से क्रान्ति नहीं आती ,आती भी है तो पल भर की, चिरस्थाई नहीं विचारों के क्रान्ति ही चिरस्थाई हो सकती है !अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का .....यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है….
" जहाँ विराटता की थोड़ी-सी भी झलक हो, जिस बूँद में सागर का थोड़ा-सा स्वाद मिल जाए, जिस जीवन में सम्भावनाओं के फूल खिलते हुए दिखाई दें, समझना वहाँ कोई दिव्यशक्ति साथ में हें ।"
चिट्ठाजगत

बुधवार, 20 मई 2009

अपनों को बुरा बताते नहीं है

कुछ दर्द ऐसे भी होते है ।
जो नज़र आते नहीं है॥

कुछ किस्से ऐसे भी होते है ।
जिन्हें बताते नहीं है॥

चाहे दुःख से छलनी हो सीना ।
फिर भी हम अपने जख्म दिखाते नहीं है ॥

दर्द कितना भी दे कोई ।
अपनों को बुरा बताते नहीं है ॥

10 टिप्पणियाँ:

Nirmla Kapila 20 मई 2009 को 6:43 pm  

kuchh dard aise hote hain jo nazar aate nahi-- bahut badiya bhavabhiviakti hai badhai

Udan Tashtari 20 मई 2009 को 8:16 pm  

दर्द कितना भी दे कोई ।
अपनों को बुरा बताते नहीं है ॥

-बहुत सही!!

अनिल कान्त : 20 मई 2009 को 9:15 pm  

kya baat hai

dard humesha khud tak hi seemit rakhna chahiye ...

tabhi insaan chhipata bhi hai

हिमांशु । Himanshu 20 मई 2009 को 10:08 pm  

बेहतर रचना के लिये आभार ।

श्यामल सुमन 21 मई 2009 को 5:54 pm  

भावपूर्ण रचना। कम शब्द गहरी बात। वाह। कहते हैं कि-

हर बार अपना दर्द बताना नहीं अच्छा।
और जख्म हैं ऐसे कि छुपाना नहीं अच्छा।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

Einstein 22 मई 2009 को 4:28 pm  

Gargi jee,
Aapki Bhavna se mai sahmat hoon..Aur ye bhi kahana chahta hoon ki ye dukh sukh se adhik sahayak hota hai ek ensan ke liye..So jo bhi mile sabka samman hai..

मीत 22 मई 2009 को 6:00 pm  

दर्द कितना भी दे कोई ।
अपनों को बुरा बताते नहीं है.
वाह! वाह!
अच्छा लिख रहीं है,.
मीत

alfaz 26 मई 2009 को 6:29 pm  

आपने एक कारगर रचना लिखी हैं , दर्द....एक अज़ीम रचना ।

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) 11 जून 2009 को 12:52 pm  

भावः पूर्ण रचना दिल को छू लिया
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.
Blog Widget by LinkWithin
" अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का , यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है…."

अपनी भाषा मैं लिखे

अपनी रचनाएं ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित करें रचनाकारों से अनुरोध है कि 'अभिव्यक्ति' में अपनी रचना के निःशुल्क प्रकाशन हेतु वे समसामयिक रचनाएं जैसे - राजनैतिक परिदृश्य, स्वास्थ्य, जीवन, भावनात्मक संबंधों जैसे- दोस्ती, प्यार, दिल कि बातें आदि से सम्बन्धित लेख, कहानी, कविता, गज़ल व चुटकले आदि भेज सकते हैं. भेजी गयी रचनाएं मौलिक, अप्रकाशित और स्वरचित होनी चाहिए । रचनाएं यूनिकोड में ही स्वीकार्य होंगी । आप की स्वीकृत रचनाएँ आप के नाम के साथ ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित की जायेंगी। रचनाएं ई-मेल द्वारा भेजी जा सकती हैं । ई-मेलः gargiji2008@gmail.com
"इस ब्लॉग पर पधारने के लिये आप का सहर्ष धन्यवाद"
यहाँ प्रकाशित रचनाओं, विचारों, लेखों-आलेखों और टिप्पणियों को इस ब्लॉग व ब्लॉग लेखक के नाम के साथ अन्यत्र किसी भी रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। (Reproduction allowed in any form strictly with the name of the Blog & Bloger.)

View My Stats

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP