संसार कल्पब्रृक्ष है इसकी छाया मैं बैठकर हम जो विचार करेंगे ,हमें वेसे ही परिणाम प्राप्त होंगे ! पूरे संसार मैं अगर कोई क्रान्ति की बात हो सकती है तो वह क्रान्ति तलवार से नहीं ,विचार-शक्ति से आएगी ! तलवार से क्रान्ति नहीं आती ,आती भी है तो पल भर की, चिरस्थाई नहीं विचारों के क्रान्ति ही चिरस्थाई हो सकती है !अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का .....यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है….
" जहाँ विराटता की थोड़ी-सी भी झलक हो, जिस बूँद में सागर का थोड़ा-सा स्वाद मिल जाए, जिस जीवन में सम्भावनाओं के फूल खिलते हुए दिखाई दें, समझना वहाँ कोई दिव्यशक्ति साथ में हें ।"
चिट्ठाजगत

मंगलवार, 28 जुलाई 2009

जो करनी हो मोहब्बत

जो करनी हो मोहब्बत
जो करनी हो मोहब्बत तो ,बेवजा करना
और जो हो जाये तो डूबकर ,रजा करना

मै करूँ गलतियाँ जो मचल जाओ तुम
लुत्फ़-ऐ-दीदार करना और ,मजा करना

तुम्हारी खैरियत मेरी जिम्मेदारी रहेगी
मेरे लिए अपनी ही नमाज़ ,अजां करना

रूठना तो रोना गले लगकर, मना लूँगा
दूर होकर दिल-ऐ-नादान को ना सजा करना

कभी हो मौका तो आ जाना और लिपट जाना
रश्म-ओ-रिवाज से एक बार दगा करना

सुनो गर ना रहूँ शरीक-ऐ-जन्नत हो जाऊँ
मुस्कुराना और मोहब्बत का फ़र्ज़ अदा करना

अगर ऐसे ही छोड़ जाऊँ दुनिया मै ''अजीत''
कफ़न में आँचल रख आगोश-ऐ-कज़ा करना
 
कवि : ''अजीत त्रिपाठी'' जी की रचना

16 टिप्पणियाँ:

sada 28 जुलाई 2009 को 11:04 am  

तुम्हारी खैरियत मेरी जिम्मेदारी रहेगी
मेरे लिए अपनी ही नमाज़ ,अजां करना


बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

Nirmla Kapila 28 जुलाई 2009 को 11:13 am  

किसी एक दो लाईण खे लिये कहूँगी तो पूरी रचना से इन्सफ नहीं होगा बहुत ही लाजवाब लिखा है बधाई

आनन्द वर्धन ओझा 28 जुलाई 2009 को 1:22 pm  

'रस्मों-रिवाज़ से एक बार दगा करना...' बहुत सुन्दर ! लाजवाब !! निर्मला कपिला जी ने बिलकुल ठीक कहा है, हर शेर माशाल्लाह ! क्या बात है ! दाद देता हूँ त्रिपाठीजी !! और, गार्गीजी को बेहतरीन रचना परोसने का शुक्रिया !

ओम आर्य 28 जुलाई 2009 को 2:35 pm  

bahut hi sundar abhiwyakti.....badhaaee

अनिल कान्त : 28 जुलाई 2009 को 2:40 pm  

अच्छी रचना पढ़वाने के लिए आभार

gargi gupta 28 जुलाई 2009 को 2:40 pm  

अजीत जी आप के इस सहयोग के लिए आप का बहुत-बहुत धन्यवाद .
आशा है भविष्य मैं भी आप का सहयोग और प्रेम इसी प्रकार अभिव्यक्ति को मिलता रहेगा , और आप के कविता रुपी कमल यहाँ खिल कर अपनी सुगंघ बिखेरते रहेंगे.
आप की इतनी सुन्दर रचना के लिए तहेदिल से आप का अभिवादन

आप की ये रचना मान को छू कर सीधे आत्मा तक पुच गई .......भुत ही सुन्दर भाव

सुरेन्द्र "मुल्हिद" 28 जुलाई 2009 को 5:05 pm  

very nicely composed and expressed....
keep rolling gargi ji...

thanks

http://shayarichawla.blogspot.com/

Nidhi 28 जुलाई 2009 को 5:15 pm  

behad khubsurti se prem path racha gaya hai........ bhut hi sundar rachna hai

Udan Tashtari 28 जुलाई 2009 को 5:32 pm  

तुम्हारी खैरियत मेरी जिम्मेदारी रहेगी
मेरे लिए अपनी ही नमाज़ ,अजां करना

क्या बात है !वाह!

ajitji 28 जुलाई 2009 को 7:45 pm  

dhanyawaad aap sabhi ko
aapki sarahana aur prtsahan srijan ke marg par sada hi mera margdarshan karega,,,,,,,,,

gargi ji
is rachana ko yahan rakhne ke liye
mai hriday se aapka aabhari hun
aise hi sneh banaaye rakhen

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 28 जुलाई 2009 को 9:03 pm  

''अजीत त्रिपाठी'' जी का सुझाव अच्छा है।
इसे पढ़वाने के लिए आपका आभार।

‘नज़र’ 29 जुलाई 2009 को 8:50 am  

बहुत अच्छी रच्ना है!

alfaz 29 जुलाई 2009 को 6:55 pm  

बेमिसाल, लाजवाब, जैसे शब्द भी कम आपकी इस रचना के लिए, अति सुन्दर ............

ajitji 3 अगस्त 2009 को 8:27 pm  

aap sabhi ka bahut bahut aabhar

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.
Blog Widget by LinkWithin
" अभिव्यक्ति ही हमारे जीवन को अर्थ प्रदान करती है। यह प्रयास है उन्ही विचारो को शब्द देने का , यदि आप भी कुछ कहना चाहते है तो कह डालिये इस मंच पर आप का स्वागत है…."

अपनी भाषा मैं लिखे

अपनी रचनाएं ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित करें रचनाकारों से अनुरोध है कि 'अभिव्यक्ति' में अपनी रचना के निःशुल्क प्रकाशन हेतु वे समसामयिक रचनाएं जैसे - राजनैतिक परिदृश्य, स्वास्थ्य, जीवन, भावनात्मक संबंधों जैसे- दोस्ती, प्यार, दिल कि बातें आदि से सम्बन्धित लेख, कहानी, कविता, गज़ल व चुटकले आदि भेज सकते हैं. भेजी गयी रचनाएं मौलिक, अप्रकाशित और स्वरचित होनी चाहिए । रचनाएं यूनिकोड में ही स्वीकार्य होंगी । आप की स्वीकृत रचनाएँ आप के नाम के साथ ‘अभिव्यक्ति' में प्रकाशित की जायेंगी। रचनाएं ई-मेल द्वारा भेजी जा सकती हैं । ई-मेलः gargiji2008@gmail.com
"इस ब्लॉग पर पधारने के लिये आप का सहर्ष धन्यवाद"
यहाँ प्रकाशित रचनाओं, विचारों, लेखों-आलेखों और टिप्पणियों को इस ब्लॉग व ब्लॉग लेखक के नाम के साथ अन्यत्र किसी भी रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। (Reproduction allowed in any form strictly with the name of the Blog & Bloger.)

View My Stats

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP